जेजेपी-आप गठबंधन को विकल्प के रूप में देख रहे हैं लोग- दुष्यंत चौटाला

LSChunav     Apr 25, 2019
शेयर करें:   

बीते पांच साल की अपनी यात्रा याद करते हुए दुष्यंत ने पीटीआई-भाषा से कहा, काफी कुछ बदल चुका है। मुझे अपनी पढ़ाई छोड़नी पड़ी, राजनीति में आया और आज एक पार्टी का नेतृत्व कर रहा हूं।

चंडीगढ़। पांच साल पहले 26 वर्ष की आयु में चुनाव जीतकर सबसे युवा सांसद बनने वाले दुष्यंत चौटाला इस बार अपनी पार्टी खड़ी कर लोकसभा चुनाव में भाजपा और कांग्रेस से लोहा लेने को तैयार हैं। दुष्यंत, उनके पिता अजय चौटाला और भाई दिग्विजय को बीते साल उनके दादा और इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) के अध्यक्ष ओमप्रकाश चौटाला ने पार्टी से निष्कासित कर दिया था, जिसके बाद उन्होंने जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) नाम से अपनी पार्टी का गठन किया था।

इसे भी पढ़ें: नरसिंह यादव का निलंबन ‘क्रूर और अनुचित’ कदम है: संजय निरूपम

बीते पांच साल की अपनी यात्रा याद करते हुए दुष्यंत ने पीटीआई-भाषा से कहा,  काफी कुछ बदल चुका है। मुझे अपनी पढ़ाई छोड़नी पड़ी, राजनीति में आया और आज एक पार्टी का नेतृत्व कर रहा हूं। इसके लिए कठोर प्रयास और बड़े बदलावों की आवश्यकता होती है। 

इसे भी पढ़ें: जिन्हें लोकसभा चुनावों में लहर नहीं दिख रही वह जरा घर से बाहर निकल कर देखें

इस साल जनवरी में जींद में हुए उपचुनाव में दुष्यंत की जेजेपी दूसरे स्थान पर रही थी। उसे अपनी मूल पार्टी इनेलो से कहीं ज्यादा वोट मिले थे, जो पांचवे स्थान पर खिसक गई थी। जेजेपी हरियाणा की सभी दस लोकसभा सीटों पर आम आदमी पार्टी के साथ गठबंधन कर चुनाव लड़ रही है। हरियाणा में छठे चरण में 12 मई को मतदान होना है। हिसार से मौजूदा सांसद और इस बार जेजेपी के टिकट पर चुनाव लड़ रहे दुष्यंत ने कहा,  लोग भाजपा से छुटकारा पाना चाहते हैं और कांग्रेस को सत्ता में नहीं आने देना चाहते। ऐसे में वह जेजेपी-आप गठबंधन को विकल्प के रूप में देख रहे हैं।