मोदी जो कुछ कहते हैं, उस पर सवालिया निशान लग जाता है: राज बब्बर

LSChunav     Apr 19, 2019
शेयर करें:   
मोदी जो कुछ कहते हैं, उस पर सवालिया निशान लग जाता है: राज बब्बर

राज बब्बर कहा कि कांग्रेस ने संप्रग के शासनकाल के दौरान साबित किया है कि वह समाज के सभी वर्गों के लिए काम करती है और उसने ‘मनरेगा’ जैसी योजना लागू की, जिससे ग्रामीण इलाकों में न्यूनतम 100 दिनों के रोजगार की गारंटी मिली। बब्बर

कांग्रेस नेता राज बब्बर यूपी में लोकसभा चुनाव प्रचार-प्रसार में लगे हैं। लगातार वो रैलियां कर रहे हैं। मीडिया के संबोधन में  राज बब्बर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमलावर हो गये। कांग्रेस नेता राज बब्बर ने कहा है कि नरेंद्र मोदी जो कुछ कहते हैं, उस पर सवालिया निशान होता है और यह प्रधानमंत्री पद पर बैठे किसी व्यक्ति के लिए अच्छी बात नहीं है। राज बब्बर ने अपनी पार्टी का बचाव करते हुए कहा की 2014 के लोकसभा चुनावों में राज्य में सिर्फ दो सीटों - रायबरेली और अमेठी - में सिमट गई कांग्रेस पार्टी ‘‘खत्म नहीं हुई’’ है और वह फिर मजबूत स्थिति में आएगी।

इसे भी पढ़ें: UP कांग्रेस अध्यक्ष राज बब्बर फतेहपुर सीकरी से लड़ेंगे लोकसभा चुनाव 

राज बब्बर ने मीडिया चैनल से बात करते हुए बताया, ‘‘मैं प्रधानमंत्री के झूठ पर कोई टिप्पणी नहीं करना चाहता... इतने ऊंचे पद पर आसीन किसी व्यक्ति की विश्वसनीयता पर जब सवाल हो, उसके दावों पर सवाल हो, तो वह खुद ही सबसे बड़ा झूठ बन जाता है। आप समझ सकते हैं कि प्रधानमंत्री जैसे पद पर बैठे किसी व्यक्ति पर सवाल के क्या मायने हैं।’’कांग्रेस नेता ने दावा किया, ‘‘यहां तक कि राफेल मामले का फिर से परीक्षण करने के उच्चतम न्यायालय के निर्णय ने भी प्रधानमंत्री को कठघरे में खड़ा कर दिया है। यह मोदी जी के लिए झटका है, भले ही वह अपने बचाव में कुछ भी कह लें।’’ चुनाव प्रचार के दौरान अपने प्रतिद्वंद्वियों की ओर से अपने खिलाफ जारी बयानबाजी से बेपरवाह बब्बर ने कहा कि सार्वजनिक जीवन में लोगों को अपनी भाषा पर नियंत्रण रखना चाहिए और ओछे शब्दों के इस्तेमाल से परहेज करना चाहिए।
 
राज बब्बर कहा, ‘‘ऐसी टिप्पणियां मुझे परेशान नहीं करतीं। मेरे माता-पिता ने मुझे ऐसी परवरिश नहीं दी है कि मैं किसी गाली के बदले किसी को गाली दूं। मैं पूरी तरह मानता हूं कि सार्वजनिक जीवन में लोगों को अपने शब्दों पर नियंत्रण रखना चाहिए और भाषा की गरिमा का आदर करना चाहिए।’
राज बब्बर ने कहा, ‘‘जब हम चुनावी प्रक्रिया के जरिए ऊंचे पदों के लिए प्रतिस्पर्धा कर रहे हों तो हमें ओछी भाषा का इस्तेमाल करने से परहेज करना चाहिए। जो हमसे छोटे हैं और जो हमारी तरफ देखते हैं, उन्हें हमें अपने शब्दों से प्रेरित करना चाहिए और सार्वजनिक जीवन में भाषा की महत्ता समझनी चाहिए।’’ प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राज बब्बर ने इस बार फतेहपुर सीकरी से लोकसभा चुनाव लड़ रहे हैं, जहां 18 अप्रैल को मतदान हुआ। बब्बर ने कहा, ‘‘इस चुनाव को मेरे जरिए कांग्रेस की फिर से मजबूती के तौर पर मैं नहीं देखता। कांग्रेस कोई ऐसी चीज नहीं है जो खत्म हो चुकी हो। पार्टी लोगों के दिलों में है और लोगों को उस पर भरोसा है। लोगों राहुल गांधी पर भरोसा करते हैं और वे राजनीति में प्रियंका गांधी के प्रवेश से उत्साहित हैं।’’
 
राज बब्बर कहा कि कांग्रेस ने संप्रग के शासनकाल के दौरान साबित किया है कि वह समाज के सभी वर्गों के लिए काम करती है और उसने ‘मनरेगा’ जैसी योजना लागू की, जिससे ग्रामीण इलाकों में न्यूनतम 100 दिनों के रोजगार की गारंटी मिली। बब्बर ने कहा, ‘‘छोटा से छोटा किसान भी कह सकता है कि कांग्रेस ने समाज के सभी वर्गों और आम लोगों के लिए काम किया है। हमने किसानों के कर्ज माफ किए, मनरेगा के जरिए रोजगार दिया।’’ उन्होंने कहा कि पंजाब, मध्य प्रदेश और राजस्थान में कांग्रेस की अगुवाई वाली सरकारों ने सत्ता में आते ही किसानों की कर्ज माफी की। 
 
‘‘अधूरे वादों’’ को लेकर मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए बब्बर ने कहा, ‘‘विश्वास और आस्था राजनीति एवं सार्वजनिक जीवन में महत्वपूर्ण है। और यह लोकतंत्र की खूबसूरती है कि लोग सत्ता तक पहुंचने के लिए उन्हें मूर्ख बनाने वालों पर विश्वास करना बंद कर देती है।’’