शनिवार, 19 अक्तूबर 2019 | समय 18:53 Hrs(IST)

अपना दल ने उतार तो दिया उम्मीदवार मगर पावर भाजपा के हाथ ही रहेगी

By अनुराग गुप्ता | LSChunav | Publish Date: Oct 1 2019 3:34PM
अपना दल ने उतार तो दिया उम्मीदवार मगर पावर भाजपा के हाथ ही रहेगी

साल 2017 में हुए विधानसभा चुनाव में प्रतापगढ़ सदर सीट से अपना दल (सोनेलाल) के प्रत्याशी संगम लाल गुप्ता ने जीत दर्ज की थी और फिर लोकसभा चुनाव के समय भाजपा के टिकट पर संगम लाल गुप्ता सांसद बन गए और यह सीट खाली हो गई।

अपना दल (सोनेलाल) का भारतीय जनता पार्टी के साथ यूं तो गठबंधन है लेकिन लगातार अपना दल को भाजपा पार्टी द्वारा झटके मिल रहे हैं। आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश की 11 विधानसभा सीटों के लिए होने वाले उपचुनाव के लिए उम्मीदवारों के नामों की घोषणा हो गई हैं और सभी ने अपना नामंकन भी दाखिल कर दिया। लेकिन प्रतापगढ़ विधानसभा सीट पर उम्मीदवार के नाम को लेकर पेंच अंतिम समय तक बना रहा।

कहने को तो यह मामला रविवार की रात सुलझ गया और अपना दल (सोनेलाल) को संतोष भी मिल गया। लेकिन क्या उन्हें असल मायने में खुशी मिली होगी... तो सुनिए प्रतापगढ़ सीट पर होने वाले उपचुनाव के लिए जैसे ही प्रत्याशी के नाम पर मुहर लगी, ठीक वैसे ही कार्यकर्ताओं के मन में सवाल भी खड़े होने लगे और यह बात नेताओं और कार्यकर्ताओं को पची भी नहीं कि भाजपा प्रत्याशी राजकुमार पाल इस सीट से चुनाव लड़ेगा लेकिन अपना दल (सोनेलाल) के चुनाव चिह्न पर। कहने को तो यह अपना दल (सोनेलाल) का प्रत्याशी हुआ लेकिन असल मायने में कहानी ठीक उलट है।

इसे भी पढ़ें: योगी की मौजूदगी में मनोहर लाल ने भरा नामांकन, पिछली बार से बड़ी जीत का किया दावा

रविवार रात लंबी चली बातचीत के बाद सोमवार को भाजपा के जिला सचिव राजकुमार पाल ने अपना दल (सोनेलाल) के चुनाव चिह्न कप-प्लेट के साथ अपना पर्चा दाखिल किया। बता दें कि साल 2017 में हुए विधानसभा चुनाव में प्रतापगढ़ सदर सीट से अपना दल (सोनेलाल) के प्रत्याशी संगम लाल गुप्ता ने जीत दर्ज की थी और फिर लोकसभा चुनाव के समय भाजपा के टिकट पर संगम लाल गुप्ता सांसद बन गए। जिसके बाद यह सीट खाली पड़ी थी।

पेंच कहां फंसा ?

11 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव के लिए भाजपा ने 10 सीटों के लिए अपने उम्मीदवार की घोषणा कर दी थी और एक सीट अपनी सहयोगी पार्टी अपना दल (सोनेलाल) के लिए छोड़ दी थी। इसके बावजूद भाजपा चाहती थी कि वह प्रतापगढ़ सदर की वह अपने पास रखे। इसीलिए भाजपा ने राजकुमार पाल को प्रत्याशी बनाया। ऐसे में कहने को तो यह सीट अपना दल (सोनेलाल) के हिस्से में चली गई लेकिन जो असल पॉवर है वह भाजपा के ही हाथों में रहेगी।

इसे भी पढ़ें: सुना है 2 मिनट पहले बदला हो किसी ने प्रत्याशी ! RLD ने रच दिया नया कीर्तिमान

चौंकाने में उस्ताद है भाजपा

भाजपा उम्मीदवारों ने जब अपना नामांकन दाखिल किया तो एक चौंका देने वाली बात सामने आई। हालांकि इस बात की जानकारी सभी को उसी वक्त हो गई थी जब भाजपा ने उम्मीदवारों की सूची जारी की थी। फिर भी हम आपको बता दें कि भाजपा ने मिसाल कायम करते हुए एक सब्जी वाले को अपना उम्मीदवार बनाया है। घोसी विधानसभा सीट के लिए होने वाले उपचुनाव में भाजपा ने विजय राजभर को उम्मीदवार बनाया है। विजय राजभर के पिता सब्जी बेचते हैं।

पार्टी द्वारा तवज्जो दिए जाने पर विजय राजभर काफी उत्साहित हो गए और उन्होंने कहा कि संगठन ने मुझे बहुत बड़ी जिम्मेदारी दी है। मेरे पिता मुंशी फुटपाथ पर सब्जियां बेचते हैं। मैं पार्टी की उम्मीदों पर खरा उतरने की पूरी कोशिश करूंगा। इसी बीच जब मीडियाकर्मियों ने विजय राजभर के पिता से बातचीत की तो उन्होंने कहा कि मैं सब्जी बेचता हूं और बेचता रहूंगा। आपको बता दें कि इस सीट से फागू चौहान विधायक थे और उन्हें बिहार का राज्यपाल नियुक्त किया जा चुका है। 


Related Story

तीखे बयान