रविवार, 20 अक्तूबर 2019 | समय 20:19 Hrs(IST)

लोकमहत्व से जुड़े कई महत्वपूर्ण मु्ददे विशेष उल्लेख के जरिये राज्यसभा में उठाए गए

By rajnikant@prabhasakshi.com | LSChunav | Publish Date: Jul 1 2019 3:23PM
लोकमहत्व से जुड़े कई महत्वपूर्ण मु्ददे विशेष उल्लेख के जरिये राज्यसभा में उठाए गए

माकपा के इलवारम करीम ने बीएसएनएल की संकटग्रस्त आर्थिक स्थिति का मुद्दा उठाया और कहा कि सरकारी क्षेत्र के इस उपक्रम का खर्च कमाई से अधिक है। उन्होंने बीएसएनएल की हालत सुधारने के लिए सरकार से उसे मदद देने की मांग की। इसी पार्टी के विनय विश्वम ने कहा कि देश भर में गर्मी की वजह से करीब 500 लोगों की जान जा चुकी है।

नयी दिल्ली। राज्यसभा में सदस्यों ने सोमवार को विशेष उल्लेख के जरिये लोकमहत्व से जुड़े अलग अलग मुद्दे उठाए और सरकारी नौकरियों में स्थानीय लोगों को प्राथमिकता देने, बीएसएनएल की हालत सुधारने तथा सभी जिलों में आश्रय गृह खोले जाने की मांग की। अन्नाद्रमुक के एन गोकुल कृष्ण, माकपा के इलवारम करीम तथा विनय विश्वम, तृणमूल कांग्रेस के अहमद हसन तथा कांग्रेस की वानसुक सियाम और हुसैन दलवई ने विशेष उल्लेख के जरिये लोकमहत्व से जुड़े मुद्दे उठाए। अन्नाद्रमुक के एन गोकुल कृष्ण ने केंद्र से सरकारी नौकरियों में तृतीय एवं चतुर्थ श्रेणी के पदों पर भर्ती में स्थानीय लोगों को प्राथमिकता दिए जाने की मांग की।

इसे भी पढ़ें: J&K में राष्ट्रपति शासन की समयसीमा बढ़ाए जाने का सपा ने किया समर्थन

माकपा के इलवारम करीम ने बीएसएनएल की संकटग्रस्त आर्थिक स्थिति का मुद्दा उठाया और कहा कि सरकारी क्षेत्र के इस उपक्रम का खर्च कमाई से अधिक है। उन्होंने बीएसएनएल की हालत सुधारने के लिए सरकार से उसे मदद देने की मांग की। इसी पार्टी के विनय विश्वम ने कहा कि देश भर में गर्मी की वजह से करीब 500 लोगों की जान जा चुकी है। जाड़े के दिनों में ठंड से लोग मारे जाते हैं। उन्होंने कहा कि ठंड और गर्मी के कहर का सबसे ज्यादा प्रभाव वंचित वर्ग पर ही पड़ता है जिसके पास रहने और खाने की सुविधा नहीं होती। उन्होंने सरकार से सभी जिलों में आश्रय गृह खोले जाने की मांग की। 
कांग्रेस की वानसुक सियाम ने पूर्वोत्तर में वीजा केंद्र खोले जाने का अनुरोध किया। उन्होंने कहा कि पूर्वोत्तर में वीजा केंद्र खुलने के बाद लोगों को दूसरे देशों के दूतावासों के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे। इसी पार्टी के हुसैन दलवई ने देश में मुसलमान की स्थिति का मुद्दा विशेष उल्लेख के जरिये उठाया। उन्होंने कहा कि मुसलमानों की आर्थिक एवं सामाजिक स्थिति के साथ साथ उनकी शैक्षिक स्थिति भी चिंताजनक है। समुदाय में बाल श्रम की भी समस्या है। 


तीखे बयान