साध्वी प्रज्ञा की चुनावी इमोशनल स्पीच! आंसुओं में बह निकला ठाकुर की जेल यातनाओं का दर्द

LSChunav     Apr 19, 2019
शेयर करें:   
साध्वी प्रज्ञा की चुनावी इमोशनल स्पीच! आंसुओं में बह निकला ठाकुर की जेल यातनाओं का दर्द

मानस भवन में आयोजित कार्यकर्ता सम्मेलन में साध्वी प्रज्ञा ने आंसू पोछते हुए कहा, "मैं कभी भी विवादों में नहीं रही, मेरे खिलाफ साजिश रची गई। मालेगांव बम विस्फोट मामले में गिरफ्तार किए जाने के बाद मुझे प्रताड़ित किया गया।

जब से साध्वी प्रज्ञा (sadhvi pragya) को भोपाल लोकसभा सीट से भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने टिकट दिया हैं तब से साध्वी प्रज्ञा (sadhvi pragya) पर सियासी संग्राम के शोले भड़क रहे हैं। कहीं बीजेपी साध्वी प्रज्ञा (sadhvi pragya) के पोस्टर लगा कर न्याय करने का दावा कर रही हैं, तो दूसरे तरफ लगातार कांग्रेस साध्वी प्रज्ञा (sadhvi pragya) पर आक्रामक हो रही हैं। लेकिन भारतीय जनता पार्टी ने यह तय कर लिया हैं की साध्वी प्रज्ञा (sadhvi pragya) चुनाव लड़ेंगी। साध्वी प्रज्ञा  ने अपने लिए चुनाव प्रचार करना भी शुरू कर दिया हैं। साध्वी प्रज्ञा (sadhvi pragya) ने चुवान जीतने के लिए इमोशनल स्पीच तैयार की हैं। वो ये चुनाव अपने आप पर जेल में हुए अत्याचार को लेकर लड़ेंगी। एक  कार्यकर्ता सम्मेलन के संबोधन में साध्वी प्रज्ञा (sadhvi pragya) अपने ऊपर हुई यातना को याद करके भावुक हो गई। मालेगांव बम विस्फोट के आरोप में गिरफ्तारी के दौरान पुलिस द्वारा दी गई प्रताड़ना का ब्यौरा देते हुए रोने लगी उनकी आंखों से आंसू छलक पड़े।

इसे भी पढ़ें: उमर अब्दुल्ला की मांग, रद्द हो साध्वी प्रज्ञा की जमानत

मानस भवन में आयोजित कार्यकर्ता सम्मेलन में साध्वी प्रज्ञा (sadhvi pragya) ने आंसू पोछते हुए कहा, "मैं कभी भी विवादों में नहीं रही, मेरे खिलाफ साजिश रची गई। मालेगांव बम विस्फोट मामले में गिरफ्तार किए जाने के बाद मुझे प्रताड़ित किया गया। रात-रात भर पीटा जाता था, कई कई दिन सिर्फ पानी के सहारे काटने पड़े हैं।" साध्वी प्रज्ञा (sadhvi pragya) ने आगे कहा कि उन्होंने कहा कि वह नहीं चाहतीं कि अब कोई दूसरी बहन इस तरह से प्रताड़ित हो।" इस चुनाव में वोट की भिक्षा मांग रही हूं। जब आप यह भिक्षा दे देंगे तो मानिए आपने राष्ट्र रक्षा के ऋण से मुक्त होने का प्रयास कर लिया।"
अपनी जेल की यातना को बताते हुए साध्वी प्रज्ञा (sadhvi pragya) ने कहा की उन्हें 24 दिन तक लगातार पीटा गया। पीटने के दौरान गंदी-गंदी गालिया दी जाती थी। साध्वी प्रज्ञा (sadhvi pragya) ने कहा कि पुलिस ने उन्हे लगातार बेल्ट से पीटा जिसकी वजह से उनका शरीर सुन्न पड़ जाता था। गुनाह कबूल करवाने के लिए हमें उल्टा लटका दिया जाता था। निर्वस्त्र करने की धमकी दी जाती थी। इसी प्रताड़ना को याद कर वो फूट-फूट कर रोने लगी।
जब साध्वी अपना दर्द बयां कर रही थी तो भाजपा कार्यकर्ता बीच-बीच भारत माता की जय और जय श्रीराम के नारे लगा रहे थे। अपनी व्यथा सुनाते हुए साध्वी ने कई बार अपने आंसुओं को पोंछा।