मंगलवार, 12 नवम्बर 2019 | समय 06:31 Hrs(IST)

MP की कानून व्यवस्था को लेकर आपस में भिड़े शिवराज और कमलनाथ

By दिनेश शुक्ल | LSChunav | Publish Date: Aug 19 2019 12:21PM
MP की कानून व्यवस्था को लेकर आपस में भिड़े शिवराज और कमलनाथ

भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने वर्तमान कांग्रेस की कमलनाथ सरकार को दोषी ठहराया है तो वहीं मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि आपकी सरकार के दाग धोने में लगा हूं।

भोपाल। मध्यप्रदेश में कानून व्यवस्था को लेकर पूर्व और वर्तमान मुख्यमंत्री आमने सामने आ गए है। प्रदेश के सतना जिले से अपहरित 13 साल के मासूम विकास प्रजापति की हत्या के बाद बयानबाजी का दौर शुरू हो गया है। जहां ऐसी घटनाओं के लिए भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने वर्तमान कांग्रेस की कमलनाथ सरकार को दोषी ठहराया है तो वहीं मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि आपकी सरकार के दाग धोने में लगा हूं। पांच सला में ऐसा मध्यप्रदेश बनाऊंगा कि आपको अपने कार्यकाल पर शर्म आएगी।

इसे भी पढ़ें: फिर बोले शिवराज- नेहरू अपराधी थे, मोदी-शाह की करता हूं पूजा

पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सतना में बच्चे के अपहरण और 10 लाख की फिरौती मांगे जाने के बाद अपनी प्रतिक्रिया देते हुए बयान दिया था कि हमने मध्यप्रदेश में डकैत खत्म कर इसे शांति का टापू बना दिया था, लेकिन कमलनाथ सरकार ने अपहरण को उद्योग बना दिया, अपराधी खुले आम खेल रहे है। शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कमलनाथ जी अब तो जागिए, ट्रांसफर-पोस्टिंग से फुर्सत मिले तो मध्यप्रदेश को बचाइए। महिला-बच्चे, व्यापारी कोई सुरक्षित नहीं। चारों तरफ लूट मची है। राजनीतिक हस्तक्षेप से अपराधियों के हौसले बुलंद है।

जिसका जवाब देते हुए मुख्यमंत्री कमलनाथ ने ट्वीट कर कहा कि शिवराजजी यह वहीं मध्यप्रदेश है, जो आपने मुझे बर्बादी की कगार पर लाकर सौंपा था। कानून व्यवस्था की बदतर स्थिति में, अपराधों में, दुष्कर्म में, बेरोजगारी में, कुपोषण में, युवाओं की बेरोजगारी में नंबर वन बनाकर छोड़ा था। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने अपने दूसरे ट्वीट में कहा कि मात्र 8 माह में ही, मैं आपके द्वारा सौंपी गई इस बदहाल व्यवस्था को दुरूस्त करने में पूरी तत्परता से लगा हूं। आप विश्वास रखें अगले 5 वर्ष में ऐसा मध्यप्रदेश बनाऊंगा कि आपको, अपने 13 वर्ष के कार्यकाल पर शर्म आएगी।

इसे भी पढ़ें: नरोत्तम मिश्रा के बहाने मध्य प्रदेश भाजपा में गुटबाजी, निशाने पर पूर्व CM शिवराज सिंह चौहान

वहीं सतना जिले के अमरपाटन थाना क्षेत्र के चोरहटा से शुक्रवार को 13 साल के मासूम विकास प्रजापति का शव, रविवार को पुलिस ने चोरहटा से 15 किलोमीटर दूर मैहर थाना क्षेत्र के बंशीपुर गाँव के खंडहर में बने कुए से बरामद किया। मासूम के अपरहण के बाद 10 लाख की फिरौती की मांग की गई थी। सतना जिले के पुलिस अधीक्षक रियाज इकबाल ने बताया कि अपहरण और हत्या के मामले में मृतक विकास के चचेरे भाई तेजबली प्रजापति और उसके साथी धनीलाल प्रजापति को गिरफ्तार कर लिया गया है। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि पारिवारिक जमीनी विवाद के चलते मासूम विकास का अपहरण कर हत्या की गई। इससे पहले सतना जिले के चित्रकूट में एक व्यापारी के दो पुत्रों प्रियांश और श्रेयांश का अपहरण कर हत्या कर दी गई थी जिस पर भी खूब हंगामा हुआ था।

इस मामले पर प्रदेश भाजपा के वरिष्ठ नेता और विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष गोपाल भर्गव ने भी ट्वीट कर इस घटना के लिए कांग्रेस की कमलनाथ सरकार को दोषी ठहराया। उन्होंने कहा कि श्रेयांश और प्रियांश के अपहरण के बाद हत्या जैसी घटना की पुनरावृत्ति होना सरकार की कार्यप्रणाली और कानून व्यवस्था पर प्रश्नचिह्न खड़ा करती है। सतना जिले में लगातार बच्चों के अपहरण हो रहे हैं लेकिन सरकार मौन है। शांति के टापू मध्यप्रदेश को कांग्रेस ने खौफ़ज़दा प्रदेश बना दिया है। कुल मिलाकर प्रदेश की कानून व्यवस्था को लेकर विपक्ष लगातार कांग्रेस की कमलनाथ सरकार को घेरती रही है।

इसे भी पढ़ें: कमलनाथ सरकार को गिराने में हमारी रूचि नहीं: शिवराज

पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और मुख्यमंत्री कमलनाथ अब इस मामले पर आमने सामने आ गए है। जहां पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अपनी सरकार में कानून व्यवस्था की तुलना करते हुए प्रदेश की कानून व्यवस्था को बदतर स्थिति में होने की बात कहते है तो वही मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भी शिवराज सिंह चौहान के बयानों को गंभीरता से लेते हुए पलटवार करना शुरू कर दिया है।


Related Story

तीखे बयान