शनिवार, 14 दिसम्बर 2019 | समय 18:04 Hrs(IST)

सरकार बनाने में भाजपा को नहीं थी दिलचस्पी, शिवसेना बोली- फॉर्मूले का नहीं किया पालन

By अनुराग गुप्ता | LSChunav | Publish Date: 11/11/2019 9:51:38 AM
सरकार बनाने में भाजपा को नहीं थी दिलचस्पी, शिवसेना बोली- फॉर्मूले का नहीं किया पालन

शिवसेना के वरिष्ठ नेता संजय राउत ने कहा कि भाजपा 50-50 फॉर्मूले का पालन करने के लिए तैयार नहीं हैं, जबकि चुनावों से पहले उन्होंने इसी पर अपनी सहमति जताई थी।

मुंबई। शिवसेना के वरिष्ठ नेता संजय राउत ने प्रेस कॉन्फेंस कर भाजपा पर जमकर हमला। संजय राउत ने कहा कि दोनों पार्टियों के बीच गठबंधन टूटने की जिम्मेदारी शिवसेना नहीं बल्कि भाजपा की बनती है। भाजपा ने महाराष्ट्र को इस स्थिति में भेजा है। भाजपा का यह अहंकार ही है। वह विपक्ष में बैठने को तैयार है लेकिन सरकार बनाने में कोई दिलचस्पी नहीं है।

इसे भी पढ़ें: भाजपा और शिवसेना की राहें हुई जुदा, सावंत ने केंद्रीय मंत्री पद से इस्तीफे का किया ऐलान

उन्होंने कहा कि भाजपा 50-50 फॉर्मूले का पालन करने के लिए तैयार नहीं हैं, जबकि चुनावों से पहले उन्होंने इसी पर अपनी सहमति जताई थी। आपको बता दें कि भाजपा और शिवसेना की करीब 30 साल पुरानी दोस्ती अब टूटने वाली है। क्योंकि केंद्रीय मंत्री अरविंद सावंत मोदी सरकार को अपना इस्तीफा सौंपेंगे। इसी शर्त के साथ ही शिवसेना की राकांपा और कांग्रेस के साथ बातचीत शुरू हो गई है।

संजय राउत ने कहा कि अगर भाजपा अपना वादा पूरा नहीं करना चाहती तो गठबंधन में रहने का कोई मतलब नहीं है। उन्होंने कहा कि भाजपा को सरकार बनाने का दावा पेश करने के लिए 72 घंटे मिले। जबकि हमें 24 घंटे दिए गए। इसी के साथ राउत ने कहा कि कांग्रेस, राकांपा को मतभेद भूल कर महाराष्ट्र के हित में एक न्यूनतम साझा कार्यक्रम के साथ आना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: महाराष्ट्र में सरकार गठन की संभावना पर चर्चा तेज, कांग्रेस देगी समर्थन !

कुछ वक्त पहले ही शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने राकांपा प्रमुख शरद पवार से फोन पर बातचीत की। जिसके बाद अब शरद पवार ने अपने विधायकों के साथ बैठक कर रहे हैं और वहां तय करेंगे कि सरकार गठन के लिए शिवसेना को समर्थन देना है या नहीं।


Related Story

तीखे बयान