मंगलवार, 20 अगस्त 2019 | समय 09:21 Hrs(IST)

असम के पहले चरण में 41 उम्मीदवारों की शैक्षिक योग्यता मैट्रिक पास या उससे कम

By LSChunav | Publish Date: Apr 6 2019 5:57PM
असम के पहले चरण में 41 उम्मीदवारों की शैक्षिक योग्यता मैट्रिक पास या उससे कम

डिब्रूगढ़ से भाजपा के मौजूदा सांसद और इस बार भी चुनाव लड़ रहे रामेवश्वर तेली हाईस्कूल पास हैं। कांग्रेस ने तेजपुर से सेवानिवृत आईएएस अधिकारी एमजीवीके भानु को उम्मीदवार बनाया है।

डिब्रूगढ़। असम में लोकसभा चुनाव के पहले चरण में 41 उम्मीदवारों की शैक्षिक योग्यता मैट्रिक पास या उससे कम है। इनमें भाजपा के मौजूदा सांसद भी शामिल हैं। चुनाव हलफनामों में यह बात सामने आई है। हालांकि इस सूची में आईआईटी के एक पूर्व छात्र, राजनीति विज्ञान के एक सेवानिवृत प्राध्यापक, कानून और स्नातकोत्तर डिग्रीधारक भी शामिल हैं। असम की 14 में से पांच लोकसभा सीटों पर 11 अप्रैल को मतदान होना है।

 इसे भी पढ़ें: चुनाव के बाद देश की जनता नरेंद्र मोदी को बना देगी बेरोजगार: गौरव गोगोई

डिब्रूगढ़ से भाजपा के मौजूदा सांसद और इस बार भी चुनाव लड़ रहे रामेवश्वर तेली हाईस्कूल पास हैं। कांग्रेस ने तेजपुर से सेवानिवृत आईएएस अधिकारी एमजीवीके भानु को उम्मीदवार बनाया है। वह आंध्र प्रदेश के रहने वाले हैं और उन्होंने आईआईटी दिल्ली से इंजीनियरिंग में स्नातकोत्तर किया है। उनके खिलाफ दो निर्दलीय उम्मीदवार जबीउर्रहमान खान, इकबाल अंसारी हैं। रहमान दसवीं तक पढ़े हैं जबकि इकबाल उच्चतर माध्यमिक पास हैं। इसके अलावा इस सीट पर वीपीआई पार्टी के महेन्द्र ओरांग (मैट्रिक) राकांपा के महेन्द्र भूयान, भाजपा के पल्लव लोचन दास, और निर्दयलीय उम्मीदवार विजय कुमार तिरु चुनाव लड़ रहे हैं। ये सभी उम्मीदवार स्नातक हैं। 
असम के कानून के अनुसार पंचायत का सदस्य बनने के लिए प्रत्याशी को कम से छठवीं कक्षा पास होना चाहिए। राज्य की भाजपा सरकार चाहती है कि विधानसभा एवं लोकसभा चुनाव लड़ने वाले लोगों के लिए भी न्यूनतम शिक्षा निर्धारित की जानी चाहिए। उच्चतम न्यायालय चुनाव उम्मीदवारों की शैक्षणिक योग्यता तय करने से संबंधित एक याचिका पर सुनवाई कर रही है।

Related Story

तीखे बयान