शनिवार, 19 अक्तूबर 2019 | समय 17:27 Hrs(IST)

गुजरात में गांधी जयंती पर आयोजित हुए विभिन्न कार्यक्रम, हजारों बच्चों ने भेजी बापू को चिट्ठी

By LSChunav | Publish Date: Oct 2 2019 2:33PM
गुजरात में गांधी जयंती पर आयोजित हुए विभिन्न कार्यक्रम, हजारों बच्चों ने भेजी बापू को चिट्ठी

मुख्यमंत्री विजय रूपानी पोरबंदर के कीर्ति मंदिर में एक प्रार्थना सभा में शामिल हुए। इसी घर में आज के दिन 1869 में महात्मा गांधी का जन्म हुआ था।

अहमदाबाद। गुजरात में महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के अवसर पर अहमदाबाद के साबरमती आश्रम सहित कई स्थानों पर प्रार्थना सभाओं का आयोजन किया गया। गांधी का घर कहे जाने वाले साबरमती आश्रम स्थित हृदय कुंज में आयोजित सर्वधर्म प्रार्थना सभा में बड़ी संख्या में प्राथमिक विद्यालयों के बच्चे शामिल हुए। इस अवसर पर आश्रम ट्रस्ट के सदस्य, विख्यात गांधीवादी और अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे। मुख्यमंत्री विजय रूपानी पोरबंदर के कीर्ति मंदिर में एक प्रार्थना सभा में शामिल हुए। इसी घर में आज के दिन 1869 में महात्मा गांधी का जन्म हुआ था। उन्होंने आज के दौर में महात्मा गांधी की प्रासंगिकता के बारे में बताया। रूपानी पोरबंदर में एक स्वच्छता अभियान में भी शामिल होंगे।

इसे भी पढ़ें: गांधीजी का नाम लेना आसान है पर उनके बताए रास्ता पर चलना मुश्किल: सोनिया का मोदी पर तंज

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आज शाम अहमदाबाद आने का कार्यक्रम है, जहां वह साबरमती आश्रम में गांधी को श्रदांजलि देंगे। उसके बाद वह देश के विभिन्न हिस्सों से आए ग्राम प्रमुखों की सभा को संबोधित करेंगे और देश को खुले में शौच से मुक्त घोषित करेंगे। साबरमती आश्रम ट्रस्ट ने एक पहल के तहत सरकारी प्राथमिक विद्यालयों के करीब 30,000 विद्यार्थियों ने बापू को पत्र लिखने के लिए कहा है। इस पहल का मकसद बच्चों को राष्ट्रपिता के जीवन से परिचित होना और प्रेरणा प्राप्त करना है।

इसे भी पढ़ें: गांधी जयंती पर कमलनाथ ने की पदयात्रा की अगुवाई, कहा- गर्व है महानतम व्यक्ति ने किया पार्टी का नेतृत्व

साबरमती आश्रम के निदेशक अतुल पांड्या ने पीटीआई-भाषा को बताया कि उन्हें पोस्टकार्ड दिए गए और उनसे कहा गया है कि वे महात्मा से जो कहना चाहते हों, वे लिखें और उसे साबरमती आश्रम भेज दें। उन्होंने बताया, ‘‘हमें अभी तक 15,000 पोस्टकार्ड मिले हैं, और आने वाले दिनों में कई और मिलने की उम्मीद है। हर दिन 100 से अधिक पोस्टकार्ड आ रहे हैं। उन्होंने बताया कि पत्रों में ज्यादातर विद्यार्थियों ने गांधी को लेकर अपनी समझ और आज के विश्व में अहिंसा की प्रासंगिकता के बारे में लिखा है।


Related Story

तीखे बयान