शनिवार, 7 दिसम्बर 2019 | समय 02:50 Hrs(IST)

सरकार ने जम्मू कश्मीर आरक्षण (दूसरा संशोधन) विधेयक वापस लिया, TMC ने किया विरोध

By LSChunav | Publish Date: 11/27/2019 2:16:05 PM
सरकार ने जम्मू कश्मीर आरक्षण (दूसरा संशोधन) विधेयक वापस लिया, TMC ने किया विरोध

विधेयक वापस लेने के संबंध में विरोध जताते हुए तृणमूल कांग्रेस के सौगत राय ने कहा कि सदन की कार्यवाही के नियम 110 के तहत विधेयक वापसी के तीन प्रमुख कारण होते हैं जिनमें नया विधेयक लाना या अन्य कोई विधेयक लाना शामिल हैं।

नयी दिल्ली। सरकार ने बुधवार को जम्मू और कश्मीर आरक्षण अधिनियम, 2004 का और संशोधन करने वाले जम्मू और कश्मीर (दूसरा संशोधन) विधेयक, 2019 को वापस ले लिया। गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने लोकसभा में विधेयक को वापस लेने की अनुमति मांगी और सदन की सहमति के बाद विधेयक को वापस ले लिया गया।

इसे भी पढ़ें: राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री ने अधिकारों के साथ-साथ कर्तव्यों के पालन पर दिया जोर

विधेयक वापस लेने के संबंध में विरोध जताते हुए तृणमूल कांग्रेस के सौगत राय ने कहा कि सदन की कार्यवाही के नियम 110 के तहत विधेयक वापसी के तीन प्रमुख कारण होते हैं जिनमें नया विधेयक लाना या अन्य कोई विधेयक लाना शामिल हैं। उन्होंने कहा कि यह विधेयक जम्मू कश्मीर के आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लोगों को आरक्षण देने वाला था। इसमें कुछ गलत नहीं था। सरकार ने इसे वापस लेने का कारण नहीं बताया। 

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा कि यह विधेयक राज्यसभा द्वारा पारित है और सरकार ने गत छह अगस्त को सदन को अवगत कराया था कि किस कारण से विधेयक वापस लिया जा रहा है। गौरतलब है कि संसद ने गत छह अगस्त को जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा संबंधी अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को समाप्त करने के प्रस्ताव संबंधी संकल्प और जम्मू कश्मीर को दो केंद्र शासित प्रदेशों जम्मू कश्मीर तथा लद्दाख में विभाजित करने वाले विधेयक को मंजूरी दी थी। 

इसे भी पढ़ें: संविधान दिवस पर बोले महामहिम, हर परिस्थिति के लिये संविधान सम्मत रास्ते उपलब्ध

गृह मंत्री अमित शाह ने तब लोकसभा में जम्मू कश्मीर आरक्षण (दूसरा संशोधन) विधेयक 2019 को वापस लेने की अनुमति मांगी थी। सदन ने इसकी अनुमति दी। शाह ने कहा था कि अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को समाप्त करने के प्रस्ताव संबंधी संकल्प को मंजूरी मिलने के बाद इस विधेयक की जरूरत नहीं होगी। राज्ससभा ने इस संकल्प को पांच अगस्त को पारित किया था।


Related Story

तीखे बयान