रविवार, 17 नवम्बर 2019 | समय 15:45 Hrs(IST)

कांग्रेस में जारी उठा-पटक के दौर के बीच गहलोत ने वेणुगोपाल से मुलाकात की

By LSChunav | Publish Date: May 27 2019 6:02PM
कांग्रेस में जारी उठा-पटक के दौर के बीच गहलोत ने वेणुगोपाल से मुलाकात की

सीडब्ल्यूसी की बैठक में मौजूद रहे दो नेताओं ने इसकी पुष्टि भी की। इसी बैठक में हार की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए गांधी ने इस्तीफे की पेशकश की थी, हालांकि सीडब्ल्यूसी ने प्रस्ताव पारित कर इसे सर्वसम्मति से खारिज कर दिया और पार्टी में आमूलचूल बदलाव के लिए उन्हें अधिकृत किया।

नयी दिल्ली। लोकसभा चुनाव में राजस्थान में कांग्रेस के सफाए को लेकर पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक में नाराजगी जताए जाने की पृष्ठभूमि में राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सोमवार को पार्टी के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल से मुलाकात की। सूत्रों के मुताबिक वेणुगोपाल के आवास पर हुई इस मुलाकात के मौके पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल भी मौजूद थे। गहलोत 25 मई को सीडब्ल्यूसी की बैठक में भाग लेने के बाद जयपुर वापस लौट गए थे, लेकिन रविवार रात फिर दिल्ली लौट आए। वैसे, गहलोत से जुड़े सूत्रों का कहना है कि उनके दिल्ली आने का मुख्य मकसद प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहलाल नेहरू की पुण्यतिथि के मौके पर नेहरू की समाधि पर जाना था और दिल्ली में कांग्रेस के नेताओं से उनकी मुलाकात शिष्टाचार भर है।

इसे भी पढ़ें: हार के बाद जाखड़ ने कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष पद से दिया इस्तीफा

दूसरी तरफ, गहलोत की वेणुगोपाल से मुलाकात इस मायने में अहम है कि राहुल गांधी ने लोकसभा चुनाव में राजस्थान और मध्य प्रदेश में पार्टी के सफाए को लेकर विशेष रूप से नाराजगी जताई थी। सूत्रों और मीडिया में आई खबरों के मुताबिक, बैठक में राहुल गांधी ने राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम सहित कुछ बड़े क्षेत्रीय नेताओं का उल्लेख करते हुए कहा था कि इन नेताओं ने बेटों-रिश्तेदारों को टिकट दिलाने के लिए जिद की और उन्हीं को चुनाव जिताने में लगे रहे और दूसरे स्थानों पर ध्यान नहीं दिया।
सीडब्ल्यूसी की बैठक में मौजूद रहे दो नेताओं ने इसकी पुष्टि भी की। इसी बैठक में हार की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए गांधी ने इस्तीफे की पेशकश की थी, हालांकि सीडब्ल्यूसी ने प्रस्ताव पारित कर इसे सर्वसम्मति से खारिज कर दिया और पार्टी में आमूलचूल बदलाव के लिए उन्हें अधिकृत किया।

Related Story

तीखे बयान