गहलोत का आरोप, चुनाव जीतने के लिये भाजपा सेना का ले रही है सहारा

LSChunav     Apr 16, 2019
शेयर करें:   
गहलोत का आरोप, चुनाव जीतने के लिये भाजपा सेना का ले रही है सहारा

इस अवसर पर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने कहा कि आज देश में ऐसा वातावरण बना दिया है कि जो प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के खिलाफ है, वह देश के खिलाफ है।

जयपुर। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि आज चुनाव जीतने के लिये भाजपा द्वारा सेना का सहारा लिया जा रहा है और भारतीय सेना को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सेना बताया जा रहा है। करौली-धौलपुर, भरतपुर एवं जयपुर देहात में कांग्रेस प्रत्याशियों के समर्थन में आयोजित जनसभाओं को सम्बोधित करते हुए गहलोत ने कहा, ‘‘देश में भाजपा ने नफरत और घृणा का माहौल पैदा कर दिया है। भाजपा तोडऩे की राजनीति करती है, हम देश और दिलों को जोड़ते हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘देश का संविधान खतरे में है और आपका वोट लोकतंत्र बचाने के लिए है। लोकतंत्र में विपक्ष एवं जनता को संतुष्ट करना पड़ता है लेकिन भाजपा सरकार इस मामले में पूर्णतया विफल रही है।’’ 

 
उन्होंने कहा कि देश में कांग्रेस का प्रधानमंत्री बना तो धौलपुर से सरमथुरा, गंगापुर वाया करौली रेल लाईन का कार्य कराया जाएगा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार में सडक़ें, बिजली, पानी, शिक्षा, मुख्यमंत्री आवास योजना, पट्टे वितरण जैसे विकास कार्यों के साथ-साथ गरीबों के लिये स्वास्थ्य योजनाएं, नि:शुल्क दवा योजना एवं जॉंच योजना, दो रुपये किलो के स्थान पर एक रूपये किलो गेहूं , किसानों का ऋण माफ, बेरोजगारों को 3500 रूपये बेरोजगारी भत्ता जैसी एक के बाद एक योजनाएं लागू की गई हैं। 
उन्होंने कहा, ‘‘1971 में पाकिस्तान के दो टुकड़े कर दिये गये, इन्दिरा जी ने कभी इसका श्रेय नहीं लिया और लक्षित हमले होते रहे, देश के हित में इन्हें कभी सार्वजनिक नहीं किया गया, अब मोदी जी ऐसे पेश कर रहे हैं, जैसे भारत ने पहली बार ऐस हमला किया हो,उनको इसका राजनीतिक फायदा चाहिये, शहादत सैनिकों ने दी है तो इन हमलों का श्रेय मोदी कैसे ले सकते हैं। भाजपा तोडऩे की राजनीति करती है, हम देश और दिलों को जोड़ते हैं।’’  इस अवसर पर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने कहा कि आज देश में ऐसा वातावरण बना दिया है कि जो प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के खिलाफ है, वह देश के खिलाफ है। उन्होंने आरोप लगाया कि संवैधानिक संस्थाओं की धज्जियां उड़ायी जा रही है।