किसान कृषि ऋण माफी योजना: मध्यप्रदेश में कांग्रेस- भाजपा के बीच जुबानी जंग जारी

LSChunav     May 09, 2019
शेयर करें:   
किसान कृषि ऋण माफी योजना: मध्यप्रदेश में कांग्रेस- भाजपा के बीच जुबानी जंग जारी

वह कह रहे हैं कि मेरे भाई रोहित चौहान का कृषि रिण सरकार ने माफ कर दिया है। प्रदेश सरकार के आदेश के अनुसार कृषि रिण माफ कराने के लिये किसान को आवेदन पत्र भरना होता है। जांच के बाद आवेदन योग्य पाया गया तो रिण माफ किया जाता है।’’

भोपाल। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा एक आमसभा में मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के परिजनों के भी किसान रिण माफी योजना में लाभान्वित होने का दावा करने के बाद प्रदेश में कांग्रेस और भाजपा के बीच वाक युद्ध तेज हो गया है। चौहान ने राहुल गांधी और मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ पर झूठ बोलने और किसानों को धोखा देने का आरोप लगाते हुए बृहस्पतिवार को दावा किया कि उनके खिलाफ षडयंत्र किया गया है। उन्होंने संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘अपनी किसान फसल रिण माफी योजना की असफलता छिपाने के लिये कांग्रेस ने यह षडयंत्र रचा है। वह कह रहे हैं कि मेरे भाई रोहित चौहान का कृषि रिण सरकार ने माफ कर दिया है। प्रदेश सरकार के आदेश के अनुसार कृषि रिण माफ कराने के लिये किसान को आवेदन पत्र भरना होता है। जांच के बाद आवेदन योग्य पाया गया तो रिण माफ किया जाता है।’’ 
चौहान ने अपने गांव जैत :सीहोर जिला:की पंचायत का किसानों को दिया गया आदेश दिखाते हुए कहा, ‘‘यह दस्तावेज बताता है कि मेरा भाई किसान रिण माफी योजना का पात्र ही नहीं है। वह आयकर भरता है और रिकॉर्ड में लिखा है कि मेरे भाई रोहित ने रिण माफी के लिये आवेदन ही नहीं किया।’’ उन्होंने कहा कि एक आयकरदाता या सरकारी कर्मचारी इस योजना का लाभ नहीं ले सकता।
उन्होंने कहा कि कांग्रेस किसानों को फसल रिण माफी योजना का लाभ पहुंचाने में असफल रही है, कांग्रेस ने किसानों को धोखा दिया है।
चौहान ने कहा कि मुख्यमंत्री ने छोटी अवधि के मात्र दो लाख रुपये तक के कृषि रिण माफ करने के आदेश दिये हैं जबकि कांग्रेस ने सभी तरह के रिण माफ करने का वादा किया था।  पूर्व मुख्यमंत्री ने यह भी कहा ‘‘रिण माफी पाने वाले जिन 21 लाख किसानों की सूची कमलनाथ ने मुझे भिजवाई है, उसमें किसी के भी नाम के आगे यूनिक ट्रांसफर रिफरेंस नंबर :यूटीआर: नहीं लिखा है और बिना यूटीआर नंबर के बैंक का कोई भी लेनदेन संभव नहीं है।’’ 
 
उन्होंने सवाल किया कि प्रदेश सरकार इस मद में मात्र 1300 करोड़ रुपये बजट का प्रावधान कर किसानों का 14,000 करोड़ रुपये का रिण कैसे माफ कर सकती है? रिण माफी के वादे पर असफल रहने और किसानों को धोखा देने के भाजपा के आरोप पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को ग्वालियर की चुनावी रैली में कथित तौर पर कहा था, ‘‘कमलनाथ जी सभी को बतायें, कि कांग्रेस सरकार की किसान फसल रिण माफी योजना से लाभान्वित होने वाले किसानों में शिवराज सिंह चौहान के परिजन भी शामिल हैं।’’राहुल के यह कहने पर कमलनाथ मंच पर आए। तब राहुल ने कमलनाथ का मोबाइल फोन देखकर लोगों को बताया कि शिवराज सिंह चौहान के भाई रोहित सिंह चौहान और उनके रिश्तेदार निरंजन सिंह का भी रिण माफ किया गया है जबकि शिवराज कहते हैं कि किसी का रिण माफ नहीं हुआ है।
 
राहुल ने आगे कहा, ‘‘सरकार के आंकड़ों में लिखा है कि उनके भाई का रिण माफ किया गया है। और कमलनाथ जी, अगर वह चाहें तो इसकी एक प्रतिलिपि उनको (चौहान को) भी भेज दें। उनके भाई ने रिण माफी योजना के लिये आवेदन किया था और शिवराज जी कह रहे हैं कि किसी का रिण माफ नहीं हुआ है।’’ गौरतलब है कि नवंबर में हुए मध्यप्रदेश के विधानसभा चुनावों में कांग्रेस का किसानों से कृषि रिण माफ करने का वादा एक मुख्य मुद्दा था। समझा जाता है कि15 साल बाद भाजपा को बेदखल कर प्रदेश की सत्ता में कांग्रेस की वापसी में इस वादे की अहम भूमिका थी।