रविवार, 23 फरवरी 2020 | समय 09:11 Hrs(IST)

केजरीवाल की बड़ी जीत में भूमिका निभाने वाले इन छह लोगों को क्या जानते हैं आप

By अनुराग गुप्ता | LSChunav | Publish Date: 2/12/2020 2:47:31 PM
केजरीवाल की बड़ी जीत में भूमिका निभाने वाले इन छह लोगों को क्या जानते हैं आप

दिल्ली में आप को प्रचंड बहुमत मिली है। 70 विधानसभा सीटों वाली दिल्ली में अकेले अपने दम पर AAP ने 62 सीटें हासिल की जबकि बची हुई 8 सीटों पर भाजपा ने कब्जा किया। आपको बता दें कि आम आदमी पार्टी ने चुनावी कैंपेन के लिए जाने-माने चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर की कम्पनी आईपैक की सर्विसेस ली थी।

नयी दिल्ली। दिल्ली में आम आदमी पार्टी को प्रचंड बहुमत मिली है। 70 विधानसभा सीटों वाली दिल्ली में अकेले अपने दम पर आम आदमी पार्टी ने 62 सीटें हासिल की जबकि बची हुई 8 सीटों पर भाजपा ने कब्जा किया। आपको बता दें कि आम आदमी पार्टी ने चुनावी कैंपेन के लिए जाने-माने चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर की कम्पनी आईपैक की सर्विसेस ली थी। लेकिन इनके अलावा कुछ लोग और थे जिन्होंने आम आदमी पार्टी को जीत दिलाने में अहम भूमिका अदा की।

पार्टी कार्यकर्ताओं और नेताओं के अलावा एक टीम भी थी जिसने विधानसभा चुनाव में जीत सुनिश्चित करने के लिए अपनी पूरी ताकत झोंक दी थी। आइए जानते हैं कौन हैं वो लोग ?

इसे भी पढ़ें: भाजपा ने ज्यादातर वे सीटें गंवाईं जहां उसके नेताओं ने की थीं विवादित टिप्पणियां

कपिल भारद्वाज 

आम आदमी पार्टी के लिए लंबे समय से काम कर रहे कपिल भारद्वाज मीडिया, पब्लिक रिलेशन (पीआर), पब्लिसिटी पर लगातार काम कर रहे थे। दिल्ली समेत पूरे देश में पार्टी को मजबूत करने के लिए कपिल भारद्वाज लगाातर चुनावी रणनीतियों पर काम कर रहे थे। जिसका नतीजा सभी ने चुनाव परिणाम में देख ही लिया।

कपिल भारद्वाज ने अमेरिका से ग्रेजुएशन किया था और वह चुनाव में बूथ मैनेजमेंट और स्टार कैंपनर्स के शेड्यूल से काम कर रहे थे। साथ ही भारद्वाज इस पर भी अपनी नजर बनाए हुए थे कि कौन सा विरोधी किस वक्त और कहां पर कौन से मुद्दे पर चर्चा कर रहा है।

इसे भी पढ़ें: AAP की जीत पर क्या कहते हैं केजरीवाल के पुराने साथी? यहां जानिए

प्रीति शर्मा मेनन

आम आदमी पार्टी की राष्ट्रीय प्रवक्ता और राष्ट्रीय कार्यकारिणी की सदस्य प्रीति शर्मा मेनन मुंबई की निवासी हैं। उन्होंने पार्टी के सोशल मीडिया से लेकर फंड बढ़ाने तक के काम को संभाला है। साल 2011 में अन्ना आंदोलन के साथ ही प्रीति मेनन ने पार्टी के लिए काम करना शुरू कर दिया था। 

जासमीन शाह

केजरीवाल सरकार की डायलॉग एंड डेवलपमेंट कमिशन के चेयरपर्सन जासमीन शाह चुनाव के लिए तैयार किए जा रहे मेनिफेस्टो की कमिटी के भी मेंबर रहे। जासमीन शाह ने आईआईटी मद्रास से बीटेक और एमटेक की पढ़ाई की और उसके बाद उन्होंने कोलंबिया यूनिवर्सिटी से भी डिग्री हासिल की। 

जासमीन शाह ने पढ़ाई पूरी करने के बाद तकरीबन 12 साल तक नौकरी की और फिर आम आदमी पार्टी के साथ जुड़ गया। मिली जानकारी के मुताबिक जासमीन शाह केजरीवाल सरकार की कई पॉलिसी पर भी काम कर चुके हैं।

इसे भी पढ़ें: आप ने घोषणाएं तो बहुत की हैं लेकिन उन्हें पूरा करके भी दिखाना होगा

हितेश परदेशी

दिल्ली की जनता यह मानती है कि चुनाव के दौरान जो भी कैंपेन हमने देखा है वह आम आदमी पार्टी के लिए प्रशांत किशोर ने तैयार किया था। लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। डिजिटल माध्यम के जरिए आम आदमी पार्टी को मजबूत करने का जिम्मा उठाने वाले हितेश परदेशी ने पार्टी के लिए कई मजेदार कैंपेन शुरू किए। 

हितेश ने सिर्फ कैंपेन का ही काम नहीं किया बल्कि उन्होंने कंटेंट से लेकर एडिटिंग तक तमाम तरह के कामों को संभाला और पार्टी को मजबूत करने में जुटे रहे। फिल्टर कॉपी और एआईबी जैसी संस्थानों के लिए काम करने वाले हितेश ने चुनावों में डिजिटली प्रचार-प्रसार को बढ़ावा दिया था।

इसे भी पढ़ें: 7 साल पहले बनी पार्टी ने दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी को ऐसे दी शिकस्त

आश्वती मुरलीधरन

पार्टी को मजबूत बनाने के लिए काम करने वालों लोगों से एक आश्वती मुरलीधरन साल 2009 में अरविंद केजरीवाल के आरटीआई कानून का हिस्सा थीं। इतना ही नहीं आश्वती मुरलीधरन साल 2011 में हुए अन्ना आंदोलन के संस्थापक सदस्यओं में से एक थी। उन्होंने मॉस कम्युनिकेशन की पढ़ाई की है और उन्होंने ही अरविंद केजरीवाल के टाउनहॉल प्रोग्राम का सारा जिम्मा अपने कंधों पर लिया था। 

पृथ्वी रेड्डी

अन्ना आंदोलन के समय से ही कोर कमेटी के सदस्य रहे पृथ्वी रेड्डी क्राउड फंडिंग पर अपनी नजर बनाए हुए थे। साथ ही इनका काम वॉलंटियर्स को तैयार करना और उनको लीड करना था। वॉलंटियर्स के साथ मिलकर उन्होंने पूरे चुनाव को ही बदल दिया। जिसके चलते चुनावों में नुक्कड़ नाटक, फ्लैश मॉब और म्यूजिकल वॉक देखने को मिला और यह जनता को लुभाने का और अपने साथ जोड़ने का सबसे बड़ा हथकंड़ा था।


Related Story

तीखे बयान