गुरुवार, 21 नवम्बर 2019 | समय 19:47 Hrs(IST)

खुल रहा दिल्ली का मौसम, वायु प्रदूषण की आपात स्थिति से मिल रही धीरे-धीरे राहत

By LSChunav | Publish Date: 11/6/2019 8:30:03 AM
खुल रहा दिल्ली का मौसम, वायु प्रदूषण की आपात स्थिति से मिल रही धीरे-धीरे राहत

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) के ग्रेटर नोएडा (324), नोएडा (336) गाजियाबाद (342), फरीदाबाद में (274) और गुड़गांव में (291) भी वायु गुणवत्ता में कुछ सुधार हुआ।

नयी दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में मंगलवार को वायु गुणवत्ता में कुछ सुधार हुआ, जिसने लोगों को कुछ राहत दी। साथ ही, अगले कुछ दिनों तक स्थिति बेहतर होते रहने की संभावना है। हालांकि, केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के एक अधिकारी ने बताया कि सीपीसीबी पंजाब में पराली जलाये जाने पर कड़ी नजर रखे हुए है। सीपीसीबी के मुताबिक, राष्ट्रीय राजधानी में सुबह नौ बजकर 45 मिनट पर सूचकांक 365 दर्ज किया गया जो रात नौ बजे 309 पर आ गया। 

इसे भी पढ़ें: परिवहन मंत्री ने ऑड ईवन के कार्यान्वयन की निगरानी के बाद किया ये ट्वीट

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) के ग्रेटर नोएडा (324), नोएडा (336) गाजियाबाद (342), फरीदाबाद में (274) और गुड़गांव में (291) भी वायु गुणवत्ता में कुछ सुधार हुआ। वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 0-50 के बीच ‘अच्छा’, 51-100 के बीच ‘संतोषजनक’, 101-200 के बीच ‘मध्यम’, 201-300 के बीच ‘खराब’, 301-400 के बीच ‘अत्यंत खराब’, 401-500 के बीच ‘गंभीर’ और 500 के पार ‘बेहद गंभीर’ माना जाता है। मौसम विभाग (आईएमडी) ने कहा है कि 25 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार की हवाओं ने प्रदूषकों को तेजी से छितरा दिया है। 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली में प्रदूषण के लिए केजरीवाल सरकार जिम्मेदार, पराली तो एक बहाना है: मनोज तिवारी

आईएमडी के क्षेत्रीय मौसम पूर्वानुमान केंद्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने बताया, ‘‘पश्चिमी विक्षोभ के कारण बुधवार रात और बृहस्पतिवार को उत्तर-पश्चिम भारत में बारिश होने के आसार हैं। दिल्ली-एनसीआर, जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, पश्चिमी उत्तर प्रदेश में बारिश होने का अनुमान है।’’ श्रीवास्तव ने कहा कि दृश्यता का स्तर दोपहर में सुधरकर 3,000-3500 मीटर हो गया, जो कि सामान्य है। वायु प्रदूषण पर निगरानी से जुड़ी पर्यावरण मंत्रालय की संस्था ‘सफर’ के अनुसार सोमवार को दिल्ली के पड़ोसी राज्यों में पराली जलाने की 4962 घटनायें दर्ज की गयी। इस बीच पंजाब में मंगलवार को इस सीजन में पराली जलाये जाने की सबसे अधिक 6,668 घटनायें सामने आने की खबर है।


Related Story

तीखे बयान