रविवार, 5 अप्रैल 2020 | समय 06:54 Hrs(IST)

पोस्टर उतरवाने के इलाहाबाजद हाई कोर्ट के फैसले का विपक्ष ने किया स्वागत

By LSChunav | Publish Date: 3/9/2020 5:06:51 PM
पोस्टर उतरवाने के इलाहाबाजद हाई कोर्ट के फैसले का विपक्ष ने किया स्वागत

विपक्षी दलों सपा, बसपा और कांग्रेस ने इलाहाबाद उच्च न्यायालय के उस फैसले का सोमवार को स्वागत किया, जिसमें उसने दिसंबर में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ हुए हिंसक प्रदर्शन के दौरान सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने के आरोपियों के पोस्टर हटाने का निर्देश लखनऊ प्रशासन को दिया है।

लखनऊ। विपक्षी दलों सपा, बसपा और कांग्रेस ने इलाहाबाद उच्च न्यायालय के उस फैसले का सोमवार को स्वागत किया, जिसमें उसने दिसंबर में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ हुए हिंसक प्रदर्शन के दौरान सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने के आरोपियों के पोस्टर हटाने का निर्देश लखनऊ प्रशासन को दिया है। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि सरकार ना तो नागरिकों को प्रदत्त निजता के अधिकार की जानकारी रखती है और ना ही उसका संविधान के प्रति सम्मान है। राज्य की जनता इस सरकार से उब चुकी है। हम उच्च न्यायालय के फैसले का स्वागत करते हैं।

इसे भी पढ़ें: योगी सरकार को लगा झटका, HC ने CAA विरोधी प्रदर्शनकारियों के पोस्टर हटाने को कहा

बसपा सुप्रीमो मायावती ने भी फैसले का स्वागत किया। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि इससे उत्तर प्रदेश सरकार के संविधान विरोधी चेहरे का पर्दाफाश हो गया है। उल्लेखनीय है कि न्यायमूर्ति गोविन्द माथुर और न्यायमूर्ति रमेश सिन्हा की पीठ ने लखनऊ के जिलाधिकारी एवं पुलिस आयुक्त को इस संबंध में 16 मार्च तक रिपोर्ट पेश करने को कहा है।

इसे भी पढ़ें: न्यायमूर्ति मुरलीधर ने पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय के न्यायाधीश पद की ली शपथ

इस बीच फैसले का स्वागत करते हुए सामाजिक कार्यकर्ता सदफ जाफर ने कहा कि फैसला स्वागत योग्य है क्योंकि यह देश के संविधान और न्याय पालिका में हमारी आस्था को मजबूत करता है। पोस्टरों में सदफ के अलावा पूर्व आईपीएस अधिकारी एस आर दारापुरी का नाम भी है। दारापुरी ने कहा कि इस फैसले से साबित हो गया कि उत्तर प्रदेश में कानून का राज ही चलेगा ना कि योगी आदित्यनाथ सरकार की अराजकता।


Related Story

तीखे बयान