शुक्रवार, 5 जून 2020 | समय 20:47 Hrs(IST)

कैब के खिलाफ बंगाल में प्रदर्शन जारी, कई जगह सड़क एवं रेल मार्ग बाधित

By LSChunav | Publish Date: 12/14/2019 11:59:52 AM
कैब के खिलाफ बंगाल में प्रदर्शन जारी, कई जगह सड़क एवं रेल मार्ग बाधित

पश्चिम बंगाल में नागरिकता (संशोधन) कानून के खिलाफ शनिवार को जारी प्रदर्शन के तहत प्रदर्शनकारियों ने कई स्थानों पर सड़कें एवं रेल मार्ग बाधित रखे। पुलिस ने बताया कि प्रदर्शनकारियों ने हावड़ा जिले के दोम्जुर इलाके में राष्ट्रीय राजमार्ग छह को बाधित कर दिया। उन्होंने पहियों में आग लगा दी और कई वाहनों में तोड़ फोड़ की।

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में नागरिकता (संशोधन) कानून के खिलाफ शनिवार को जारी प्रदर्शन के तहत प्रदर्शनकारियों ने कई स्थानों पर सड़कें एवं रेल मार्ग बाधित रखे। पुलिस ने बताया कि मुर्शिदाबाद और उत्तरी 24 परगना जिलों और हावड़ा (ग्रामीण) से हिंसा की खबरें मिली हैं। उन्होंने बताया कि मुर्शिदाबाद में राष्ट्रीय राजमार्ग 34 और जिले की गई अन्य सड़कों को बाधित कर दिया गया।

इसे भी पढ़ें: नागरिकता कानून का पालन करने के अलावा ममता के पास कोई विकल्प नहीं है: धनखड़

राष्ट्रीय राजमार्ग 34 उत्तरी और दक्षिणी बंगाल को जोड़ने वाला एक प्रमुख मार्ग है। उन्होंने बताया कि प्रदर्शनकारियों ने हावड़ा जिले के दोम्जुर इलाके में राष्ट्रीय राजमार्ग छह भी बाधित कर दिया। उन्होंने पहियों में आग लगा दी और कई वाहनों में तोड़ फोड़ की।पुलिस ने बताया कि बड़ी संख्या में पुलिसकर्मियों को स्थिति नियंत्रित करने के लिए मौके पर भेजा गया है। पूर्वी रेलवे के सियालदह-हसनाबाद के बीच रेल सेवाएं भी बाधित हैं।

रेलवे के एक प्रवक्ता ने बताया कि प्रदर्शनकारी सुबह छह बजकर 25 मिनट से शोंडालिया और काकड़ा मिर्जापुर स्टेशनों पर पटरी पर धरना देने बैठ गए थे। काकड़ा मिर्जापुर से सुबह साढ़े नौ बजे के आपसास लोगों को हटा दिया गया था, जबकि शोंडालिया स्टेशन पर पटरियां अब भी जाम है। श्रेत्रीय प्रवक्ता संजोय घोष ने बताया कि दक्षिण पूर्वी रेलवे के हावड़ा-खड़गपुर खंड में भी सुबह 11 बजे से ट्रेन सेवाएं ठप हैं, क्योंकि प्रदर्शनकारी सांकरील, नालपुर, मोरीग्राम और बकरनवाबाज़ स्टेशनों पर पटरियों पर बैठे हैं।

इसे भी पढ़ें: मालदीव ने CAB को माना भारत का आंतरिक मामला, कहा- देश के लोकतंत्र में पूरा यकीन

प्रदर्शनकारियों के रेलवे स्टेशनों पर आगजनी और हिंसा करने के बाद नागरिकता (संशोधन) कानून के खिलाफ यहां शुक्रवार को प्रदर्शन तब और तेज हो गया था। वे तत्काल कानून को वापस लिए जाने की मांग कर रहे हैं। पूर्वोत्तर भारत में भी इस कानून के खिलाफ विरोध प्रदर्शन जारी है।


Related Story

तीखे बयान