गुरुवार, 9 जुलाई 2020 | समय 17:27 Hrs(IST)

भाजपा नहीं काटेगी किसी भी विधायक का टिकट, इन नए चेहरों पर खेलेगी दांव

By अनुराग गुप्ता | LSChunav | Publish Date: 1/15/2020 3:32:39 PM
भाजपा नहीं काटेगी किसी भी विधायक का टिकट, इन नए चेहरों पर खेलेगी दांव

भारतीय जनता पार्टी ने दिल्ली में आठ फरवरी को होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए उम्मीदवारों के नामों पर करीब-करीब चर्चा पूरी कर ली है। शनिवार को पार्टी प्रमुख अमित शाह के आवास पर शनिवार की रात हुई मैराथन बैठक में 70 में से 40 उम्मीदवारों के नाम पर सहमति बन गई थी।

नयी दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी ने दिल्ली में आठ फरवरी को होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए उम्मीदवारों के नामों पर करीब-करीब चर्चा पूरी कर ली है। शनिवार को पार्टी प्रमुख अमित शाह के आवास पर शनिवार की रात हुई मैराथन बैठक में 70 में से 40 उम्मीदवारों के नाम पर सहमति बन गई थी। पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि 16-17 जनवरी को पहली सूची घोषित की जा सकती है।

इसे भी पढ़ें: दिल्ली भाजपा का ये होगा आगे का प्लान, प्रवेश वर्मा और मनोज तिवारी को मिलेगा ये अहम पद !

किसी का टिकट नहीं काटेगी भाजपा

एक तरफ भाजपा की मुख्य प्रतिद्वंद्वी आम आदमी पार्टी ने अपने सभी उम्मीदवारों के नामों की घोषणा कर दी। लेकिन नामों की घोषणा करने वाली सूची में आम आदमी पार्टी ने 15 मौजूदा विधायकों को जगह नहीं दी। जबकि भाजपा सूत्रों से बताया कि पार्टी किसी भी मौजूदा विधायक का टिकट नहीं काटेगी। 

बता दें कि मौजूदा विधायकों की संख्या मात्र तीन होने की वजह से भाजपा को टिकट काटने की जरूरत नहीं पड़ेगी। ऐसे में पार्टी ज्यादातर नए चेहरों पर दांव लगाएगी। फिलहाल पार्टी इंतजार कर रही थी कि आम आदमी पार्टी और कांग्रेस अपने पत्ते खोले, जिसके बाद वह अपने उम्मीदवारों के नामों का ऐलान कर सके।

इसे भी पढ़ें: AAP ने कैंपेन सॉन्ग में मनोज तिवारी का वीडियो किया इस्तेमाल, BJP ने मांगा 500 Cr. का जुर्माना

बताया जा रहा है कि भाजपा कई युवा चेहरों को मैदान में उतारने जा रही है। जिनमें नुपूर शर्मा, हरीश खुराना ( पूर्व मुख्यमंत्री मदनलाल खुराना के पुत्र), सपना चौधरी (हरियाणवी सिंगर) आदि शामिल हैं।

विधानसभा चुनाव के नामांकन की प्रक्रिया 14 जनवरी से शुरू होगी। नामांकन पत्र दाखिल करने की अंतिम तिथि 21 जनवरी है और मतदान आठ फरवरी को होगा। जबकि चुनाव आयोग 11 फरवरी को नजीते जारी करेगी। गौरतलब है कि साल 2015 में हुए विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी को 67 सीटों पर तो भाजपा को 3 सीटों पर जीत मिली थी। वहीं कांग्रेस का खाता तक नहीं खुल पाया था।


Related Story

तीखे बयान