शुक्रवार, 22 नवम्बर 2019 | समय 21:14 Hrs(IST)

योगी आदित्यनाथ पर बरसे अखिलेश, बोले- भाजपा ने रावण से लिए हैं सबक

By LSChunav | Publish Date: 10/22/2019 7:18:22 PM
योगी आदित्यनाथ पर बरसे अखिलेश, बोले- भाजपा ने रावण से लिए हैं सबक

समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि हम मुख्यमंत्री को योगी नहीं मानते हैं। गीता में कृष्ण ने जो उपदेश दिया, उस हिसाब से योगी का आचरण नहीं है।

लखनऊ। समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार के सुशासन के दावों को गलत बताते हुए कहा कि भाजपा सरकार का रामराज दरअसल भगवान राम के प्रति धोखा है। अखिलेश ने कहा कि भाजपा का रामराज राम को धोखा है। उसने रावण से सबक लिया है और कलयुगी रावण की तरह काम कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि हम मुख्यमंत्री को योगी नहीं मानते हैं। गीता में कृष्ण ने जो उपदेश दिया, उस हिसाब से योगी का आचरण नहीं है। अगर कोई संस्था हो जहां अपने नाम के आगे गलत तरीके से योगी लगाने की शिकायत हो सके तो मैं सबसे पहले शिकायत करूंगा प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि योगी की सरकार गरीबों, पिछड़ों और दलितों के साथ अन्याय कर रही है। प्रदेश में कानून-व्यवस्था नाम की कोई चीज नहीं है। योगी के राज में किसी की भी हत्या हो सकती है। सरकार अपराधियों को सजा देने के बजाय उनके साथ खड़ी है।

इसे भी पढ़ें: अखिलेश यादव ने भाजपा पर लगाए आरोप, कहा- छल-प्रपंच वाले एजेंडा पर उतर आयी है

उन्होंने कहा कि भाजपा प्रदेश में आतंक का माहौल बनाकर राज कर रही है और उसके खिलाफ जो भी आवाज उठाता है, उसे खामोश कर दिया जाता है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में भ्रष्टाचार कई गुना बढ़ गया है और जमीन पर विकास का कोई काम नहीं हो रहा है। अखिलेश ने कहा कि मुख्यमंत्री ने पिछले सप्ताह राजधानी में मारे गये हिन्दू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी के परिजन से मुलाकात की, मगर उन्हें मिला क्या?

उन्होंने दावा किया कि कमलेश की मां इस मामले की जांच से संतुष्ट नहीं हैं और उम्मीद है कि मुख्यमंत्री उनकी बात सुनेंगे। सपा अध्यक्ष ने वर्ष 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव की तैयारियों का जिक्र करते हुए कहा कि अब वह कांग्रेस और बसपा समेत किसी भी दल से गठबंधन नहीं करेंगे।

इसे भी पढ़ें: ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने पूछा सवाल, सपा जनता के साथ है या अपराधियों के साथ?

उन्होंने कहा कि चुनाव तो अभी दूर हैं लेकिन हमारी पार्टी के नेता नहीं चाहते कि किसी के साथ गठबंधन किया जाए। सपा से नाराज होकर अलग पार्टी बनाने वाले अपने चाचा शिवपाल सिंह यादव से सुलह-समझौते की सम्भावना के बारे में पूछे जाने पर अखिलेश ने कहा कि ऐसा कुछ भी नहीं होगा। उन्होंने जसवंतनगर सीट से विधायक शिवपाल को विधानसभा की सदस्यता के अयोग्य घोषित करने सम्बन्धी अर्जी वापस लेने की सम्भावनाओं के बारे में कहा कि पार्टी ऐसा नहीं करने जा रही है।


Related Story

तीखे बयान